pakoura

चाय और पकौड़ा 



शाम के समय एक मित्र के साथ में चाय – पकौड़े की पार्टी मे गया हुआ था, पार्टी एक रेस्टोरेन्ट मे थी जहा अन्य मित्र भी आये हुए थे . फरमाइश के अनुसार अलग अलग प्रकार के पकौडो का ऑर्डर हुआ , किसी को पनीर पसंद था तो किसी को प्याज के पकौड़े किसी को गोभी के पसंद थे तो किसी को पालक के . रेस्टोरेन्ट खचाखच भरा हुआ था . अनेक विदेशी सैलानी भी पकौडो को देखने और चखने आ रहे थे . वो रेस्टोरेन्ट वाले से मोदी के पकौड़े दिखाने की बात कर रहे थे उनकी बात चीत से लग रहा था की वी मोदी को पकौडो का ब्रांड अंबेसडर समझने लगे थे . वहा के एक वेटर ने बताया की जबसे मोदी जी ने पकौडो की बात की तबसे लोग उससे अलग अलग तरह के पकौड़े सीखने के लिये भीड़ लगने लगे . 


pakoura2
पकौर स्टाल इन कर्नाटका 

मीडिया वाले उसकी आमदनी जानने मे ज्यादा इच्छुक हो गये थे . बाहर निकलने पर एक मित्र ने बताया की वो किसी अच्छे लोकशन की तलाश कर रहा है ताकि वो एक पकौड़े का स्टाल लगा सके . ठेले और स्टाल बनाने वालो के पास अचानक ही ग्राहको की भीड़ बढ गई . मुझे अब लगने लगा था की पकौड़े को एक राष्‍ट्रीय व्यंजन घोषित कर देना चाहिये सरकार को भी इसके स्टार्टअप पर सब्सिडी देना चाहिये . हर आफिस के बाहर वाटर प्रूफ पकौड़े के स्टाल बनाकर बेरोजगरो को देना चाहिये .

 में तो कहता हूँ इसमे भी आरक्षण लगा देना चाहिये , पनीर ब्रेड और मच्छी के पकौड़े केवल एससी वाले ही बनायेंगे जबकि गोभी और अन्य सब्जियो के पिछड़ी वाले , सामान्य वालो को केवल चाय बनाने को मिलेगा वो भी नीबू वाली . आइ आइ टी मे तो पकौड़े की मेकिंग को लेकर एक इंजीनियरिंग की डीग्री ही बना देनी चाहिये . बल्कि इसको कौशल विकास योजना मे भी शामिल करना चाहिये .आगे  बढ़ने पर कई आइ आइ एम के शोधार्थी पकौडो के स्टाल मे चटनी और पकौड़े के साथ अपना शोध ग्रंथ पूर्ण करने मे लगे हुए थे . मुझे लगता है की अब हमारे देश मे बेरोजगारी की समस्या जल्द ही खत्म होके रहेगी और भारत सम्पूर्ण विश्‍व मे पकौड़े को वैश्‍विक रोजगार के रूप मे स्थापित करने वाले देश के रूप मे जाना जायेगा . और मोदी उस देश के नेता …


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

SPECIAL POST

ishq

इश्क़  इश्क़ के समंदर में डूबते  है  आशिक़ कई  बोलो वाह भई वाह भई  वाह भई  इश्क़ के रोग  का इलाज नहीं  फिर भी  इस रोग में  पड़ते है कई ...

इस माह की १० सबसे लोकप्रिय रचनायें