kasganj se kashmir

कासगंज से कश्मीर 


kashganj
हम भारत के लोग 

सड़क , खून , उपद्रव , हिन्दू , मुस्लिम, गाय ,तिरंगा जो शब्द आप को उचित लगे उसे अपने पास रख लीजिये उसके बारे मे सोचिये क्या पायेंगे आप ? बस एक मानसिक बीमारी जो की इन शब्दो द्वारा फैलाया जाता है, इसी मानसिक बीमारी ने कई घरो को बर्बाद कर दिया ,एक शारीरिक बीमारी से सबसे ज्यादा फायदा किसे होता है – डाक्टर को और दवा कम्पनियो को , वैसे ही इन मानसिक बिमारियो से लाभ होता है हमारे राजनेताओ को और हममे ये बीमारी क्यो फैलाई जाती है सिर्फ वोट पाने के लिये जिससे उनकी सत्ता बनी रही और वे राज करते रहे.

नुकसान हमेशा सिर्फ और सिर्फ हमारा है होता है, क्योंकि पुलिस मे भी हमारे ही भाई बहन है और सेना मे भी हमारे ही भाई उपद्रवी भी हमारे घर के गुमराह किये गये बच्चे है और वे टूटी हुई दुकाने और जलते हुए बस भी हमारे ही किसी अपने के है. महल मे रहने वाले तो वो है अपनी सुरक्षा मे सेना लेकर चलने वाले तो वो है और उनको सुरक्षा देने वाले हम ना की हमारी सुरक्षा करने वाले वो .


हम अपनी जान पे खेलके उनकी रक्षा करते है अपनी भारत मां की रक्षा करते है , और बदले मे ये अपनी सत्ता बनाये रखने के लिये हमारा इस्तेमाल खिलौने की तरह करते रहते है. हमारा खून पानी की तरह सडको पे बहता है और शायद हम अब एक शतरंज के प्यादे की तरह रह गये है ना हमे कश्मीर मे शान्ती से रहने को मिलता है ना कासगंज मे , कभी कश्मीर जलता है तो कभी कोई और प्रदेश.

                                                                                                     raijee

must read - 

राजनीतिक प्रबंधन

कोई टिप्पणी नहीं:

SPECIAL POST

valentine day

#वैलेंटाइन दिवस के पटाखे  ( crackers of valentine day) एक महीने से जिसका इन्तजार किये रहे और एक हफ्ते से जिसका  रोज छोटी दीपावली की तर...